Mili Jo Manjil To

Mili Jo Manjil To Kaaravaan Bhi Bada Lag Raha Tha,
Varana Safar Mein Har Shakhs Mujhe Thag Raha Tha,
Yun Hi Nahin Pahuncha Hun Aaj Main Is Mukaam Par
Jab So Raha Tha Ye ‘jag’ Tab Main ‘jag’ Raha Tha.

 

मिली जो मंजिल तो कारवां भी बड़ा लग रहा था, वरना सफ़र में हर शख्स मुझे ठग रहा था,
यूँ ही नहीं पहुंचा हूँ आज मैं इस मुकाम पर जब सो रहा था ये ‘जग’ तब मैं ‘जग’ रहा था।

———-

Aisi Koi 👉 Manjil Nahin ❌ Hai,
Jahaan Pahunchane Ka Koi Raasta 🚶 Na Ho !!

 

ऐसी कोई 👉 मंजिल नहीं ❌ है,
जहाँ पहुँचने का कोई रास्ता 🚶 न हो !!

———-

Jab Beasar Hone Lage Mannato Ke Dhaage,
Samajh Lo Aur Imtehaan Hai Iske Aage..

 

जब बेअसर होने लगे मन्नतो के धागे,
समझ लो और इम्तेहान है इसके आगे..

———-

1 thought on “Mili Jo Manjil To”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *